मेलाघुमनी के गीत !

अभी कुछ दिनों पहले यात्रा के क्रम में रास्ते में एक छोटे-से ग्रामीण मेले को देखकर मेले के बचपन वाले तिलिस्म को जगाने की भरसक कोशिश की। थोड़ी देर मेले में घूमा। जलेबी और हवा मिठाई भी खाई। मगर वह जादू नदारद था। शायद मेला देखने के लिए अब न बचपन वाली आंखें थीं और न उसे महसूस करने के लिए बच्चों वाला दिल। बहुत याद आए मेरे शहर गोपालगंज…

Read More >>

हिटलर व स्वस्तिक ।

हिटलर का मानना था कि आर्य जर्मनी के बाशिंदे थे और जर्मनी से जा कर हीं आर्यों ने भारत पर आक्रमण किया था । इसलिए हिटलर ने भारतीय आर्यों के शुभ चिन्ह स्वस्तिक को अपनी सेना के ध्वज पर लगाया था । उसका मानना था कि वह दिन दूर नहीं जब आर्यों के स्वस्तिक ध्वज के नीचे पूरी दुनियाँ आ जायेगी । स्वस्तिक का अर्थ मंगल होता है । सु…

Read More >>

4 साल पुराने हत्‍या के दो मामलों में रामपाल दोषी करार, सज़ा पर फैसला 16-17 अक्टूबर को

हिसार जिले के बरवाला के सतलोक आश्रम संचालक रामपाल पर चार साल बाद हत्या के केस में हिसार की विशेष अदालत में फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने हत्‍या के दो मामले में रामपाल दोषी क़रार दिया। अदालत सजा का ऐलान 16 या 17 अक्‍टूबर को करेगी। अदालत ने दोनों मामलों में रामपाल सहित 29 लोगो को दोषी ठहराया है। दोषी करार दिए गए आरोपितों में तीन महिलाएं हैं। सेंट्रल…

Read More >>

आज हिसार में धारा 144 लागू, रामपाल पर हत्या केस में फैसला थोड़ी देर में

सतलोक आश्रम प्रकरण में विवादित संत रामपाल पर गुरुवार को फैसला आना है। इस फैसले के मद्देनजर पूरे हिसार में कड़े सुरक्षा बंदोबस्त किए गए हैं। बुधवार को ही जिले में धारा-144 लगा दी गई। साथ ही यहां की सभी सीमाएं सील कर दई गई हैं।पुलिस ने मामले में सतलोक आश्रम संचालक रामपाल सहित 30 लोगों पर 302, 343 और 120बी के तहत केस दर्ज किया है। वहीं, सुरक्षा कारणों…

Read More >>

परदेसियों से ना अंखिया मिलाना ।

जाड़ भोटिया उत्तरकाशी के नीलांग और जादूंग सीमांचल में बसे हुए थे । जब 1962 में चीन से लड़ाई लगी तो ये भागकर बोगारी और डुण्डा गांवों में बस गये । हांलाकि इनकी प्रकृति व शारीरिक बनावट तिब्बतियों से मिलती जुलती है , पर ये अपने को भारतीय राजपूत मानते हैं । बोगारी भी काफी ऊंचाई पर स्थित है । ऐसे में ठण्ड अधिक पड़ने पर बोगारी के लोग भी…

Read More >>

दिव्य दृष्टि वाले वेद व्यास का भविष्य पुराण

महर्षि वेद व्यास की दिव्य दृष्टि इस प्रकार की थी कि ईशा पूर्व रचित भविष्य पुराण में उन्होंने भविष्य में होने वाली घटनाओं को पहले हीं वर्णन कर दिया था । उन्होंने भविष्य पुराण में ईशा मशीह के जन्म , उनकी भारत यात्रा ; हर्ष वर्धन , पृथ्वी राज चौहान , शंकराचार्य , मौर्य वंश , मुहम्मद साहब व उनके द्वारा चलाये गए धर्म , तैमूर , बाबर , अकबर…

Read More >>

मेरे लिए भी क्या कोई उदास बेक़रार है !

अतृप्तियों के अनन्त रेगिस्तान में प्रेम की मृगतृष्णा के पीछे भागती हिन्दी सिनेमा की सबसे ग्लैमरस, सबसे विवादास्पद, सबसे संवेदनशील अभिनेत्रियों में एक रेखा की अभिनय-यात्रा और उसका रहस्यमय आभामंडल समकालीन हिंदी सिनेमा के सबसे चर्चित मिथक रहे हैं। तमिल फिल्मों के सुपर स्टार जेमिनी गणेशन और तमिल अभिनेत्री पुष्पवल्ली के अविवाहित संबंधों की उपज रेखा को मां-बाप का प्यार कभी मिला ही नहीं। बाप ने उसे अपनी संतान मानने…

Read More >>

स्त्रीत्व का उत्सव !

आज स्त्री-शक्ति के प्रति सम्मान के नौ दिवसीय आयोजन शारदीय नवरात्रि का आरम्भ हो रहा है। यह अवसर है नमन करने का उस सृजनात्मक शक्ति को जिसे ईश्वर ने स्त्रियों को सौंपा है। उस अथाह प्यार, ममता और करुणा को जो कभी मां के रूप में व्यक्त होता है, कभी बहन, कभी बेटी, कभी मित्र, कभी प्रिया और कभी पत्नी के रूप में। दुर्गा पूजा, गौरी पूजा और काली पूजा…

Read More >>

खुशमिजाज लोगों की दुनियां ।

कभी अनिल कुम्बले ने कहा था , जो खुशमिजाजी का मेल धोनी और विराट में है वही मेल दोनों को टीम लीडर बनाती है । खुशमिजाजी भारत की भी कभी 2005 में चौथे पायदान पर थी । फिर 2013 में कूदता फांदता हमारा प्यारा भारत 113 वें पायदान पर पहुंच गया । अब जब कि 2018 का साल आया है तो हमारी यह खुशमिजाजी 133 वें पायदान पर जा पहुंची…

Read More >>

गांधी की लाठी ।

घोरघट गांव मुंगेर जिले में है । इस गांव में गांधी जी 12 अक्टूबर 1934 को पधारे थे । वे कलकत्ता के भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अधिवेशन में भाग लेकर गंगा तट पर स्थित इस गांव के बलुआ घाट पर उतरे थे । उनके साथ उनकी पत्नी कस्तूरबा गांधी भी थीं । आस पास के 25 गांवों से लोग गांधी जी से मिलने पहुंचे थे । गांधी जी तकरीबन 4 घंटे…

Read More >>
error: Content is protected !!