एनकाउंटर के बाद?

हैदराबाद में एक महिला चिकित्सक के साथ सामूहिक बलात्कार कर उसे जिन्दा जला देने वाले चारों आरोपियों के पुलिस एनकाउंटर में मारे जाने की खबर से देश में संतोष और उत्साह की लहर है। पुलिस का हथियार छीनकर भागने की कोशिश में आरोपियों के साथ हुई यह मुठभेड़ कानूनी प्रक्रियाओं के अनुसार सही है या पुलिस द्वारा भावावेश में लिया गया कोई फैसला, इसपर बहस होगी और जांच दल भी…

Read More >>

सट्टा—मटका दंडनीय अपराध

पहले के दौर में नम्बर मटके में रखे जाते थे। मटके से नम्बर निकाले जाते थे इसलिए इस सट्टे को मटका सट्टा कहा जाता है। आजकल सट्टा मटके के अतिरिक्त इण्टरनेट पर भी खेला जाने लगा है। फिर भी इसका नाम सट्टा मटका ही है। सट्टा—मटका हर किसी की जुबान पर चढ़ गया है। एक तरह से यह लाॅटरी है। इसे जुआ भी कह सकते हैं। भारत में किसी भी…

Read More >>

रॉकस्टार बाबा

वर्षों से नेपाल के त्रिवेणी कस्बे में रह रहे वन्यप्राणियों और वनों के संरक्षण के लिए जीवन समर्पित कर देने वाले एक भारतीय बाबा के बारे में सुनता रहा था। अपनी विदेशी वेशभूषा की वजह से लोग इन्हें रॉकस्टार बाबा कहते हैं। आज त्रिवेणी यात्रा के क्रम में उन्हें खोज ही लिया। मुझसे मिलने मेरे होटल भी आए। बंगाल के मुर्शिदाबाद के रहने वाले शांतनु राय चौधरी पिछले दस साल…

Read More >>

पुअवा जे पाकेला कराही में…

मेरा बचपन गांव और हाबड़ा (पश्चिम बंगाल) में अधिकत्तर बीता है। हाबड़ा में एक जगह है बी गार्डेन, जहाँ की धरती पर हम खेले कूदे और लोटे हैं। बचपन से हीं मैं पुआ का शौकीन रहा हूँ। मैं अक्सर जिद कर पुआ बनवाता था। हमारी एक किरायेदारिन थी। उसकी बेटी का नाम मोन्हिया था। इसलिए सब उसे मोन्हिया के माई कहते थे। मोन्हिया के माई अक्सर मुझे पुआ की याद…

Read More >>

आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया…

आज भगवान श्रीराम और माता सीता के विवाह की वर्षगाँठ है। यहीं मिथिला की ही थीं सीता, नाता जोड़ दूँ तो बुआ निकल आएंगी। एक पीढ़ी पहले तक हमारे बुजुर्ग अवध वालों से इसी नाते को लेकर ठिठोली करते थे। ठीक भी है, विवाह मात्र दो व्यक्तियों या एक पीढ़ी का सम्बन्ध नहीं जोड़ता, वह युगों युगों तक के लिए सम्बन्ध जोड़ता है। जानते हैं, विवाह के समय वर-बधु को…

Read More >>

हर पखवाड़े एक भाषा की मौत

हम यह कहते हुए नहीं थकते कि क्षेत्रीय भाषा व बोलियाँ हमारी ऐतिहासिक धरोहरें हैं, पर आलम यह है कि हर पखवाड़े एक भाषा की मौत होती है. सन् 2009 में खोरा भाषा बोलने वाली एकमात्र महिला बोरो की मौत हो गई थी. उसी तरह जब सारा राष्ट्र 60 वां गणतंत्र दिवस मना रहा था तो उस दिन एक भाषा की भी मौत हो रही थी. 26 जनवरी सन् 2010…

Read More >>

कैसे बचेंगी हमारी बेटियां ?

अभी तेलंगाना में जिस तरह डॉ. प्रियंका रेड्डी के साथ कुछ अपराधियों ने सामूहिक दुष्कर्म कर उसे जिंदा जला दिया, उससे पूरा देश सदमे में है। हाल के वर्षों में ऐसी असंख्य लोमहर्षक ख़बरों के साथ जीने को हम अभिशप्त रहे हैं। ऐसा लग रहा है जैसे हम यौन मनोरोगियों के देश में हैं जिसमें रहने वाली समूची स्त्री जाति के अस्तित्व और अस्मिता पर घोर संकट उपस्थित है। आज…

Read More >>

सुपर 30 का जलवा

आनंद कुमार एक मेधावी गणितज्ञ थे। उन्होंने हर परीक्षा में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया था। इसी प्रतिभा के बल पर उनका प्रवेश कैम्ब्रीज विश्वविद्यालय में हुआ था, पर आर्थिक परिस्थितियाँ उनके प्रतिकूल थीं। मजबूर होकर उन्होंने अपने खुद का एक कोचिंग संस्थान खोला, जिसमें आरम्भ में केवल दो ही लड़के आए। आज इस संस्थान में 500 लड़के पढ़ते हैं। रामानुज स्कूल आॅफ मैथेमेटिक्स नाम के इस संस्थान में अधिकांश…

Read More >>

चरवाहे तेरा जीवन

यीशू, मूसा और दाऊद अपने आरम्भिक जीवन में चरवाहे थे। यीशू मसीह ने कभी किसी से कहा था कि वे उत्तम दर्जे के चरवाहे थे। गुरु नानक भी भाई मरदाने के साथ गाय चराया करते थे। मेरे विचार से कृष्ण सबसे आला दर्जे के चरवाहे थे। उनकी बांसुरी की तान निराली थी। बांसुरी की आवाज सुनकर गायें गोपियों के साथ कृष्ण के इर्द गिर्द आ खड़ी होतीं थीं। कारगिल में…

Read More >>

बीएचयू का विवाद सांस्कृतिक आक्रमण

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय को लेकर छिड़े विवाद में यह समझना सबसे आवश्यक है कि प्रो. खान की नियुक्ति केवल संस्कृत पढ़ाने के लिए नहीं हुई है। उनकी नियुक्ति ‘संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय’ में हुई है। वह संकाय जिसमें धर्म पढ़ाया जाता है। हिन्दू विश्वविद्यालय में संस्कृत के दो संकाय हैं। एक वह जिसमें संस्कृत भाषा पढ़ाई जाती है, दूसरा संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय, जिसमें वैदिक संस्कार सिखाये जाते…

Read More >>
error: Content is protected !!