चिंतन

दिव्य दृष्टि वाले वेद व्यास का भविष्य पुराण

महर्षि वेद व्यास की दिव्य दृष्टि इस प्रकार की थी कि ईशा पूर्व रचित भविष्य पुराण में उन्होंने भविष्य में होने वाली घटनाओं को पहले हीं वर्णन कर दिया था । उन्होंने भविष्य पुराण में ईशा मशीह के जन्म , उनकी भारत यात्रा ; हर्ष वर्धन , पृथ्वी राज चौहान , शंकराचार्य , मौर्य वंश , मुहम्मद साहब व उनके द्वारा चलाये गए धर्म , तैमूर , बाबर , अकबर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

मैं हरमू नदी हूं ।

हरमू नदी रांची शहर के इर्द गिर्द बहती है । हरमू नदी के कारण हीं गर्मियों में रांची शहर की ठंडक बरकरार रहती है । बिहार राज्य का कभी रांची शहर ग्रीष्म कालीन राजधानी हुआ करता था । कारण था यहां की खुशनुमा ठंडक और हरियाली । हरमू नदी न केवल ठंडक पहुंचाती थी , बल्कि गाती भी थी । कल कल छल छल करती यह नदी 40 किलोमीटर दूर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

चौकीदारी करना इतना आसान नहीं है ।

कभी नवाजुद्दीन शिद्दकी दिल्ली में चौकीदारी करते थे । आज वे एक प्रतिभावान अभिनेता हैं । उनकी गिनती आज वाॅलीवुड के नामचीन अभिनेताओं में होती है । नवाजुद्दीन शिद्दकी एक बहुमुखी प्रतिभा के धनी कलाकार हैं । कभी हमारे प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी चाय बेचा करते थे । सफलता की सीढ़िया चढ़ते हुए आज मोदी जी इस पद तक पहुंचे हैं । प्रधान मंत्री बनने के बाद उन्होंने कहा –…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , | Leave a comment

कौवे :- एक अद्भुत चालाक पंछी की व्यथा – कथा

कौवे एक चालाक पंछी की श्रेणी में आते हैं ।ये अपने दुश्मन को 05 साल तक याद रखते हैं । मेरी माँ अपने बचपन में एक कौवे के बच्चे को पकड़ लिया था । वह कउवा लगातार कई साल तक माँ के सर में मारता रहा – यहाँ तक कि लड़कियों के झुण्ड में रहने पर भी । कौवा अपने घोसले के आस पास किसी पंछी को आने नहीं देता…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , | Leave a comment

रोशनी हो न सकी दिल भी जलाया मैंने ।

अमिता कुलकर्णी बैडमिंटन में एक जाना पहचाना नाम था । सैय्यद मोदी भी एक बहुचर्चित नाम थे बैण्डमिंटन में । सैय्यद मोदी ने बैण्डमिंटन के जाने माने नाम प्रकाश पादुकोण को हराकर राष्ट्रीय चैम्पियनशिप अपने नाम कर ली थी । अमिता कुलकर्णी और सैय्यद मोदी एक दूसरे से बैण्डमिंटन कोर्ट में हीं मिले थे । यहीं पर इनका प्यार पल्लवित व पुष्पित हुआ । बाद में दोनों ने शादी कर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

खाक हो जाएंगे हम तुमको खबर होने तक ।

मैना एक गिरोही पक्षी है , जिसे अपने वतन से प्यार है । वतन से प्यार होने के कारण यह कभी विदेश नहीं जाती । यह अपनी धुनी वहीं रमाती है , जहाँ यह पैदा होती है । यह इंसानों की आवाज की नकल करती है । वैसे तोता भी इंसानों की आवाज की नकल कर लेता है , पर अंतर इतना है कि तोता की आवाज अपनी होती है ,…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

जीवन रूपी नदी सी लगती है किताब

देश और विदेश के कई फिल्म‌ समारोहों मे अवार्ड लेकर धमाल मचा चुकी फिल्म‌ किताब की स्क्रीनिंग दिल्ली मे 15 मई को फिल्म डिविजन आॅडिटोरियम ,महादेव रोड ,दिल्ली में हुआ । इस मौके पर “गैजेट VS किताब” पर एक परिचर्या भी हुुई जिसमे मुख्य रुप से पद्मभूषण डाॅ. बिन्देश्वर पाठक और मैत्रेयी पुष्पा, उपाध्यक्षा – हिन्दी अकादमी ,दिल्ली सरकार शामिल थी।   इस मौके पर हिन्दी अकादमी कि उपाध्यक्षा मैत्रेयी…

Posted in चिंतन, रचना क्रम में | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

भोजपुरी के प्रथम आचार्य कवि : पण्डित धरीक्षण मिश्र

साहित्य अकादेमी द्वारा प्रकाशित विनिबंध ‘भारतीय इतिहास के निर्माता धरीक्षण मिश्र’ में डॉ वेदप्रकाश पाण्डेय जी ‘अपने ‘आचार्यत्व’ खंड में लिखते हैं कि धरीक्षण मिश्र भोजपुरी भाषा और साहित्य के पहले ऐसे समर्थ कवि हैं, जिन्होंने कवि-कर्म के साथ-साथ अलंकार-शास्त्र का प्रणयन किया है। अनेक यशस्वी लेखक और कवि हुए हैं, किन्तु केशवदास जैसा कोई आचार्य कवि नहीं हुआ। इस भाषा में इस आभाव की पूर्ति हुई धरीक्षण मिश्र से। धरीक्षण…

Posted in चिंतन, धरोहर | Leave a comment

पथलगड़ी के नाम पर गांव बचाइयेगा या झारखंड को सुलगाइयेगा

नया विवाद पूर्व शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की के उकसाने वाले बयान के बाद उठ खड़ा हुआ है। बंधु वैसे तो पथलगड़ी की परंपरा को सही साबित करने और इसके खिलाफ मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा जगह-जगह पोस्टर लगाने और विज्ञापन जारी करने के खिलाफ अपना बयान दे रहे थे। मगर बोलते-बोलते या तो बहक गये, या उन्होंने जानबूझकर कह दिया कि काली गाय की बली देना भी हमारी पंरपरा है और…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

उजड़ने की कगार पर तो नहीं पहुंच गया है हजारों साल पुराना सोनपुर मेला?

पिछले तीन-चार साल से मैं लगातार सोनपुर मेला जाता रहा हूं। यह सच है कि इस मेले में भीड़ हमेशा से दो-तीन वजहों से आती रही है। पहला पालतू पशुओं और पक्षियों की खरीद-बिक्री की वजह से, दूसरा इन डांस थियेटरों की वजह से। इन तमाम चीजों में कानून का लोचा रहता है, और इन्हीं कानूनी सख्तियों की वजह से मौर्यकालीन कहा जाने वाला एशिया का यह सबसे बड़ा पशुमेला…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment