चिंतन

देवी या शैतान की बेटी ?

‘महिला दिवस’ पर स्त्री सशक्तिकरण की तमाम चर्चाओं के बीच कुछ सवाल हमेशा से अनुत्तरित रहे हैं। इसमें कोई शक नहीं कि समानता के संघर्ष में स्त्रियों ने लंबा रास्ता तय किया है। स्त्रियां अब मानसिक मजबूती के साथ आर्थिक स्वतंत्रता भी हासिल करने लगी हैं। उनके प्रति पुरुषों के दृष्टिकोण में बदलाव जरूर आया है, लेकिन यह बदलाव बहुत सीमित और बाहरी ज्यादा है। दरअसल स्त्रियों की असमानता की…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

सीने में जलन आँखों में तूफान सा क्यूँ है ।

अगर आप नींद में हैं । सपना देख रहे हैं कोई राक्षस आपका पीछा कर रहा है । या आप किसी गहरे कुएँ में गिर रहे हैं । कभी अलौकिक शक्तियों का एहसास होता है तो कभी उड़ने जैसा भ्रम पैदा होता हो । तभी आपकी नींद खुल जाती है । नींद खुलने के बाद भी आप सपने से मुक्त नहीं हो पाते । आपके सीने में जकड़न होती है…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

संदेसे आते हैं , हमें तड़पाते हैं ।

मेरे मेसेंजर पर लोगों के कुछ ऐसे मेसेज आते हैं , जिनका जिक्र करना मैं मुनासिब नहीं समझता । ज्यादातर ये कम उम्र के लोग होते हैं , जो दो तीन बार हाय हाय करने के बाद अवांछित तस्वीरें भेजना शुरू कर देते हैं । इन्हें मजबूरन मुझे ब्लाॅक करना पड़ता है । ऐसे लोगों की हमने पहचान कर ली है । इनकी फ्रेण्ड लिस्ट में केवल बुजुर्ग ही होते…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

बाजत ताल पखावज बीना

मृदंग का इतिहास बहुत हीं प्राचीन है । कहते हैं कि इसकी रचना त्रिपुरासुर की खून सनी मिट्टी से स्वंय ब्रह्मा जी ने तैयार की थी । मृदंग मिट्टी का बना होने के कारण इसके टूटने का खतरा बहुत था । अमीर खुसरो भी अक्सर मृदंग बजाया करते थे । एक बार असावधानी वश यह टूट गया । अमीर खुसरो ने दोनों टुकड़ों से एक नया वाद्य बनाया । इस…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , , , , | Leave a comment

टूटता बिखरता परिवार ।

लोग संयुक्त परिवार की महत्ता को भूलते जा रहे हैं । अब एकल परिवार का चलन शुरु हो गया है । पति पत्नी और बच्चे । यही आज के परिवार की गिनती है । एकल परिवार की संख्या पांच के आस पास रहती है । एकल परिवार में बुजुर्गों का कोई काॅलम नहीं होता । या तो बुजुर्ग इस एकल परिवार के लिए फिट नहीं बैठते या खुद उनको अपने…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

प्लास्टिक का नर्क !

देश के कई राज्यों में प्लास्टिक या पोलीथिन कैरी बैग पर प्रतिबंध तो है, लेकिन जनजागृति के अभाव में जमीन पर इसका असर कम ही देखा जा रहा है। पृथ्वी के पर्यावरण को बिगाड़ने में इनकी बहुत बड़ी भूमिका है। एक पोलिथिन बैग तैयार करने के लिए सिर्फ चौदह सेकंड ही चाहिए, लेकिन इसे नष्ट होने में चौदह हजार साल तक लग सकते है। एक बार प्रयोग कर फेंके गए…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

विकास की दौड़ में पीछे छूटी टमटम गाड़ी….

दो ऊंचे पहियों की एक खुली गाड़ी जिसे एक घोड़ा खींचता है , उसे तांगा या टमटम कहते हैं । इसे हांकने वाला आगे बैठता है और सवारियां पीछे । विश्व में जब पहिए का आविष्कार हुआ तो यातायात व सामान ढुलाई में सहूलियत हुई । पहिए की जानकारी के बाद हीं रथ ,तांगा , बैलगाड़ी, ट्रेन ,बस व कार बने । आकाश में उड़ने वाली जहाज भी उड़ने से…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

राफेल पर कांग्रेस और भाजपा दोनों ही है कठघरे में : ध्रुव गुप्त

दो दिनों तक लोकसभा में राफेल विवाद पर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों को सुनने के बाद समझ यह बनती है कि इस मामले में कमोबेश कांग्रेस और भाजपा दोनों ही कठघरे में हैं। वायुसेना की तत्काल मांग को देखते हुए 2004 में आई कांग्रेस सरकार ने 526 करोड़ प्रति विमान की दर तय कर फ्रांस से 126 राफेल विमान खरीदने का मसौदा तैयार किया। वायुसेना की तत्काल ज़रूरतों और…

Posted in चिंतन, जन सरोकार, सामान्य | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

दिव्य दृष्टि वाले वेद व्यास का भविष्य पुराण

महर्षि वेद व्यास की दिव्य दृष्टि इस प्रकार की थी कि ईशा पूर्व रचित भविष्य पुराण में उन्होंने भविष्य में होने वाली घटनाओं को पहले हीं वर्णन कर दिया था । उन्होंने भविष्य पुराण में ईशा मशीह के जन्म , उनकी भारत यात्रा ; हर्ष वर्धन , पृथ्वी राज चौहान , शंकराचार्य , मौर्य वंश , मुहम्मद साहब व उनके द्वारा चलाये गए धर्म , तैमूर , बाबर , अकबर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

मैं हरमू नदी हूं ।

हरमू नदी रांची शहर के इर्द गिर्द बहती है । हरमू नदी के कारण हीं गर्मियों में रांची शहर की ठंडक बरकरार रहती है । बिहार राज्य का कभी रांची शहर ग्रीष्म कालीन राजधानी हुआ करता था । कारण था यहां की खुशनुमा ठंडक और हरियाली । हरमू नदी न केवल ठंडक पहुंचाती थी , बल्कि गाती भी थी । कल कल छल छल करती यह नदी 40 किलोमीटर दूर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment