चिंतन

टीन के बाक्स के साथ सफर (3)

रात को दो/तीन बजे ट्रेन अम्बाला कैण्ट पहुँची। अब तक बाक्स की कोई खोज खबर नहीं ली गयी थी। यहां तो उतरना था। अब तो बाॅक्स की खैर खबर लेना जरुरी हो गया था। इलेक्ट्रीशियन भीड़ में घुसा। फर्श पर बैठे लोगों ने कह दिया कि बाॅक्स यहां नहीं है। लोड करते समय मैंने खुद ही देखा था। कुली उसे सीट के नीचे रख मुझे ताकीद भी कर गया था।…

Posted in चिंतन, सामान्य | Tagged , | Leave a comment

बादलों के देश में कूड़ा !

मसूरी से करीब 22 किमी की चढ़ाई के बाद 400 एकड़ में फैला हुआ जॉर्ज एवरेस्ट का इलाका इस पूरी घाटी का सबसे खूबसूरत क्षेत्र है। बादलों का देश कही जाने वाली इस घाटी से गुजरना बादलों का सीना चीरकर रास्ता बनाने जैसा है। यहां बेहद खूबसूरत घाटी भी है, जंगल भी, कलात्मक चट्टानें भी और दूर हिमालय की हिमाच्छादित पर्वत श्रृंखला का मनोरम दृश्य भी। जॉर्ज एवरेस्ट उन्नीसवीं सदी…

Posted in चिंतन, समय सरोकार, सामान्य | Tagged , , | Leave a comment

खूबसूरत लोकतंत्र बनाम अज्ञानता…

देश मे मंदी आ रही है, फेसबुक पर लोग बेचैन है। धड़ाधड़ लेख लिखे जा रहे हैं। सरकार की गलत नीतियों की आलोचना हो रही है। लोग सजग हैं। कुछ दिनों पूर्व मुझे एक कार्यक्रम में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था। विषय था, “गरीबी कैसे मिटायें।” दुर्भाग्य से उस दिन मेरी साइकिल पंचर हो गयी और मेरे पास उसे ठीक कराने के पैसे नहीं थे। हम नहीं जा…

Posted in चिंतन, युवा अभिव्यक्ति, सामान्य | Tagged , , | Leave a comment

प्रेम की पूर्णता भारत के सिवा कहीं नहीं

मनुष्य की पूर्णता कब है, जानते हैं? मनुष्य की पूर्णता तब है, जब अज्ञानी पशु भी उसको देख कर, उससे मिल कर आनंद का अनुभव करने लगे। जब किसी को आपसे कोई भय नहीं हो, जब सबके लिए आप प्रेम स्वरूप हों, तब आप पूर्ण हो जाते हैं। मानवता के अलग-अलग मापदण्डों पर ध्यान दीजिए, आप समझ जाएंगे कि भारत को विश्व गुरु क्यों कहा जाता था। मानवता की यूरोपीय…

Posted in चिंतन, समय सरोकार | Tagged , , | Leave a comment

न जाने यह चाइनीज अफीम का नशा कब उतरेगा ?

हमारा चन्द्रयान मिशन अपने लक्ष्य से भटक गया है, तो हमारे ही देश के कुछ रहमान, फारुख, खान और बनर्जी इस बात का जश्न मना रहे हैं। हमारे देश के भीतर ही अघोषित रूप से एक दूसरा देश रहता है जो हमारी असफलताओं पर जश्न मनाता है, खुश होता है। ये वही लोग हैं जो देश के पूर्व प्रधानमंत्री की मृत्यु पर उन्हें गाली देते हैं, प्रधानमंत्री की मृत्यु के…

Posted in चिंतन, जन सरोकार, मंथन | Tagged , , , , , | Leave a comment

अपनी पृथ्वी की चिंता करें और चांद को उसके हाल पर छोड़ दें: ध्रुव गुप्त

चंद्रयान-दो की चांद की सतह के बिल्कुल पास पहुंचकर आख़िरी पलों में उसे छू न पाने की असफलता कोई बड़ा मसला नहीं है।इश्क़ की तरह विज्ञान भी ऐसी कई असफल कोशिशों से ही मंज़िल तक पहुंचता है। हमारे वैज्ञानिक सक्षम हैं और भविष्य में वे चांद ही नहीं, और कई-कई ग्रहों-उपग्रहों तक पहुंच सकते हैं। सवाल इतना भर है कि चांद पर पहुंचकर हम हासिल क्या करेंगे ? यह संतोष…

Posted in चिंतन, जन सरोकार | Tagged , , , , | Leave a comment

गोकुल रोया कृष्ण के लिए लेकिन नंद…?

कृष्ण गोकुल से जा चुके थे, और साथ ही गोकुल से जा चुका था आनंद। लोगों की हँसी जा चुकी थी, आपसी चुहल जा चुकी थी, पर्व-त्योहार-उत्सव जा चुके थे। गोकुल में यदि कुछ बचा था तो केवल सिसकियां और आह बची थी। पूरे गोकुल में एक ही व्यक्ति था जो सबकुछ सामान्य करने का प्रयत्न करता फिरता था, वे थे नंद। किसी ने उन्हें उदास नहीं देखा, किसी ने…

Posted in चिंतन, मंथन | Tagged , , , | Leave a comment

भागी हुई लड़कियों का बाप

वह इस दुनिया का सबसे अधिक टूटा हुआ व्यक्ति होता है। पहले तो वह महीनों तक घर से निकलता नहीं है, और फिर जब निकलता है तो हमेशा सर झुका कर चलता है। अपने आस-पास मुस्कुराते हर चेहरों को देख कर उसे लगता है जैसे लोग उसी को देख कर हँस रहे हैं। वह जीवन भर किसी से तेज स्वर में बात नहीं करता, वह डरता है कि कहीं कोई…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

गंगा दशहरा और मरती हुई गंगा !

आज गंगा दशहरा है। हमारे पूर्वज राजा भगीरथ की वर्षों की तपस्या के बाद गंगा के स्वर्ग यानी हिमालय से पृथ्वी पर अवतरण का दिन। राजा भगीरथ एक लोक कल्याणकारी शासक थे। उन्होंने संभवतः सूखे और पानी की कमी से मरती अपनी प्रजा के कल्याण के लिए हिमालय से गंगा के समतल भूमि पर आने का मार्ग खुलवाया और प्रशस्त किया होगा। इस विराट कार्य में कितना जनबल, कितना अभियांत्रिक…

Posted in चिंतन | Leave a comment

बिहार में एनडीए सरकार का बड़ा फैसला, अब माता-पिता की सेवा नहीं की, तो जाना होगा जेल

  बिहार कैबिनेट की मंगलवार को हुई बैठक में फैसला लिया गया कि बिहार में रहने वाली संतान अगर अब मां-पिता की सेवा नहीं करेंगे तो उनको जेल की सजा हो सकती है। माता-पिता की शिकायत मिलते ही ऐसी संतान पर कार्रवाई होगी। माता पिता भगवन का स्वरूप होते है परन्तु आज के युग में बच्चे उनको, उनके ही घर से बेघर करने पर तुले हुए है ।

Posted in चिंतन | Tagged , , | Leave a comment