चिंतन

प्लास्टिक का नर्क !

देश के कई राज्यों में प्लास्टिक या पोलीथिन कैरी बैग पर प्रतिबंध तो है, लेकिन जनजागृति के अभाव में जमीन पर इसका असर कम ही देखा जा रहा है। पृथ्वी के पर्यावरण को बिगाड़ने में इनकी बहुत बड़ी भूमिका है। एक पोलिथिन बैग तैयार करने के लिए सिर्फ चौदह सेकंड ही चाहिए, लेकिन इसे नष्ट होने में चौदह हजार साल तक लग सकते है। एक बार प्रयोग कर फेंके गए…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

विकास की दौड़ में पीछे छूटी टमटम गाड़ी….

दो ऊंचे पहियों की एक खुली गाड़ी जिसे एक घोड़ा खींचता है , उसे तांगा या टमटम कहते हैं । इसे हांकने वाला आगे बैठता है और सवारियां पीछे । विश्व में जब पहिए का आविष्कार हुआ तो यातायात व सामान ढुलाई में सहूलियत हुई । पहिए की जानकारी के बाद हीं रथ ,तांगा , बैलगाड़ी, ट्रेन ,बस व कार बने । आकाश में उड़ने वाली जहाज भी उड़ने से…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

राफेल पर कांग्रेस और भाजपा दोनों ही है कठघरे में : ध्रुव गुप्त

दो दिनों तक लोकसभा में राफेल विवाद पर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों को सुनने के बाद समझ यह बनती है कि इस मामले में कमोबेश कांग्रेस और भाजपा दोनों ही कठघरे में हैं। वायुसेना की तत्काल मांग को देखते हुए 2004 में आई कांग्रेस सरकार ने 526 करोड़ प्रति विमान की दर तय कर फ्रांस से 126 राफेल विमान खरीदने का मसौदा तैयार किया। वायुसेना की तत्काल ज़रूरतों और…

Posted in चिंतन, जन सरोकार, सामान्य | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

दिव्य दृष्टि वाले वेद व्यास का भविष्य पुराण

महर्षि वेद व्यास की दिव्य दृष्टि इस प्रकार की थी कि ईशा पूर्व रचित भविष्य पुराण में उन्होंने भविष्य में होने वाली घटनाओं को पहले हीं वर्णन कर दिया था । उन्होंने भविष्य पुराण में ईशा मशीह के जन्म , उनकी भारत यात्रा ; हर्ष वर्धन , पृथ्वी राज चौहान , शंकराचार्य , मौर्य वंश , मुहम्मद साहब व उनके द्वारा चलाये गए धर्म , तैमूर , बाबर , अकबर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

मैं हरमू नदी हूं ।

हरमू नदी रांची शहर के इर्द गिर्द बहती है । हरमू नदी के कारण हीं गर्मियों में रांची शहर की ठंडक बरकरार रहती है । बिहार राज्य का कभी रांची शहर ग्रीष्म कालीन राजधानी हुआ करता था । कारण था यहां की खुशनुमा ठंडक और हरियाली । हरमू नदी न केवल ठंडक पहुंचाती थी , बल्कि गाती भी थी । कल कल छल छल करती यह नदी 40 किलोमीटर दूर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

चौकीदारी करना इतना आसान नहीं है ।

कभी नवाजुद्दीन शिद्दकी दिल्ली में चौकीदारी करते थे । आज वे एक प्रतिभावान अभिनेता हैं । उनकी गिनती आज वाॅलीवुड के नामचीन अभिनेताओं में होती है । नवाजुद्दीन शिद्दकी एक बहुमुखी प्रतिभा के धनी कलाकार हैं । कभी हमारे प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी चाय बेचा करते थे । सफलता की सीढ़िया चढ़ते हुए आज मोदी जी इस पद तक पहुंचे हैं । प्रधान मंत्री बनने के बाद उन्होंने कहा –…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , | Leave a comment

कौवे :- एक अद्भुत चालाक पंछी की व्यथा – कथा

कौवे एक चालाक पंछी की श्रेणी में आते हैं ।ये अपने दुश्मन को 05 साल तक याद रखते हैं । मेरी माँ अपने बचपन में एक कौवे के बच्चे को पकड़ लिया था । वह कउवा लगातार कई साल तक माँ के सर में मारता रहा – यहाँ तक कि लड़कियों के झुण्ड में रहने पर भी । कौवा अपने घोसले के आस पास किसी पंछी को आने नहीं देता…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , | Leave a comment

रोशनी हो न सकी दिल भी जलाया मैंने ।

अमिता कुलकर्णी बैडमिंटन में एक जाना पहचाना नाम था । सैय्यद मोदी भी एक बहुचर्चित नाम थे बैण्डमिंटन में । सैय्यद मोदी ने बैण्डमिंटन के जाने माने नाम प्रकाश पादुकोण को हराकर राष्ट्रीय चैम्पियनशिप अपने नाम कर ली थी । अमिता कुलकर्णी और सैय्यद मोदी एक दूसरे से बैण्डमिंटन कोर्ट में हीं मिले थे । यहीं पर इनका प्यार पल्लवित व पुष्पित हुआ । बाद में दोनों ने शादी कर…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

खाक हो जाएंगे हम तुमको खबर होने तक ।

मैना एक गिरोही पक्षी है , जिसे अपने वतन से प्यार है । वतन से प्यार होने के कारण यह कभी विदेश नहीं जाती । यह अपनी धुनी वहीं रमाती है , जहाँ यह पैदा होती है । यह इंसानों की आवाज की नकल करती है । वैसे तोता भी इंसानों की आवाज की नकल कर लेता है , पर अंतर इतना है कि तोता की आवाज अपनी होती है ,…

Posted in चिंतन | Tagged , , , , , | Leave a comment

जीवन रूपी नदी सी लगती है किताब

देश और विदेश के कई फिल्म‌ समारोहों मे अवार्ड लेकर धमाल मचा चुकी फिल्म‌ किताब की स्क्रीनिंग दिल्ली मे 15 मई को फिल्म डिविजन आॅडिटोरियम ,महादेव रोड ,दिल्ली में हुआ । इस मौके पर “गैजेट VS किताब” पर एक परिचर्या भी हुुई जिसमे मुख्य रुप से पद्मभूषण डाॅ. बिन्देश्वर पाठक और मैत्रेयी पुष्पा, उपाध्यक्षा – हिन्दी अकादमी ,दिल्ली सरकार शामिल थी।   इस मौके पर हिन्दी अकादमी कि उपाध्यक्षा मैत्रेयी…

Posted in चिंतन, रचना क्रम में | Tagged , , , , , , , | Leave a comment