रचना क्रम में

छोटे गुनाह की बड़ी सज़ा

ख़बर है कि नीतीश जी एक बार फिर बिहार की शराबबंदी नीति की समीक्षा करने वाले हैं। जिस तरह राज्य के हजारों लोग महज़ शराब पीने की वजह से जेलों में सड़ रहे हैं, उसे देखते हुए इस समीक्षा की ज़रुरत महसूस भी की जा रही है। शराबबंदी बिहार सरकार का एक बेहतरीन फैसला था, लेकिन दुर्भाग्य से अति उत्साह में इसे बेहद ज़ाहिलाना तरीके से लागू किया गया। शराब…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , , , | Leave a comment

जीर जीर जीरिया ।

भूलन कोंहार को मैंने कभी नहीं देखा था । वे मेरे जनम से पहले हीं गुजर गये थे । भूलन बो को देखा था । छोटे कद की औरत थीं । रंग काफी दबा हुआ था । बाल सारे झक झक सफेद । उनकी बड़ी बहू घर से भाग रही थी । वे उसे पकड़ कर मार रहीं थीं । खींचकर घर ला रहीं थीं । पर बहु टस से…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , , | Leave a comment

न जाने कितने वर्षों तक मैं यूं हीं लेटा रहूंगा ?

सर्वमान्य तथ्य है कि एवरेस्ट पर फतह 29 मई 1953 को एडमण्ड हिलेरी और तेनजिंग शेरपा ने किया था । अगर हम कहें कि एवरेस्ट पर फतह जाॅर्ज मैलोरी और उनके सहयात्री सैंडी इरविन ने 08 जून 1924 को हीं कर लिया था तो आप विश्वास नहीं करेंगे । तथ्यों की मानें तो एडमण्ड हिलेरी और तेनजिंग शेरपा से 29 साल पहले हीं यह कारनामा किया जा चुका था ।…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , , , | Leave a comment

शराब बंदी कितनी कारगर हुई है अब तक ।

गुजरात में 1960 से शराब बन्दी लागू है । वहां शराब बंदी एक मजाक बन कर रह गयी है । पहले गुजराती लोग खुद चलकर शराब की दूकान पर जाते थे , अब शराब खुद उनके घर चलकर आ रही है । शराब की होम डिलीवरी होने लगी है । अब वहां ” गली गली गोरस फिरै , मदिरा बैठ विकाय ” वाली बात उल्टी हो गयी है । गुजरात…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , , , | Leave a comment

राम तेरी गंगा मैली हो गई !

आज गंगा दशहरा है। हमारे पूर्वज राजा भगीरथ की वर्षों की कठोर तपस्या के बाद गंगा नदी के स्वर्ग यानी हिमालय से पृथ्वी पर अवतरण का दिन। राजा भगीरथ एक लोक कल्याणकारी शासक के रूप में जाने जाते थे। उन्होंने संभवतः सूखे और पानी की कमी से मरती अपनी प्रजा के कल्याण के लिए हिमालय से गंगा के समतल भूमि पर आने का मार्ग खुलवाया और प्रशस्त किया होगा। इस…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , , | Leave a comment

दे गया घाव वो ऐसे कि जो भरते हीं नहीं ।

मध्य अफ्रीका में पाया जाने वाला यह जीव गोरिल्ला कहलाता है । 2014 तक गोरिल्ला भारत के मैसूर चिड़िया घर में था । अब यह भारत के किसी चिड़ियाघर में नहीं पाया जाता । इसे संकटग्रस्त प्राणियों की श्रेणी में रखा गया है । गोरिल्ला का 98% डी एन ए मानव से मिलता है । यही मानव इस गोरिल्ला के नाम पर गोरिल्ला फिदाइन बना रहा है । गोरिल्ला फिदाइन…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , | Leave a comment

ख़ुदा ख़ैर करे !

क्या जम्मू और कश्मीर में आतंक का रास्ता अख्तियार कर अपने ही निर्दोष देशवासियों और सैनिकों का क़त्लेआम मचाने वाले आतंकी सचमुच मुसलमान हैं ? वे किसी भी अर्थ में मुसलमान नहीं हो सकते। फिर माहे रमज़ान का बहाना लेकर उन्हें एक महीने तक सैन्य कार्रवाई से छूट देने का क्या अर्थ है ? अगर आप उन्हें मुसलमान मानते हैं तो आप बहुत भोले हैं और पिछले अनुभवों से आपने…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , , , | Leave a comment

बेवजह इल्जाम है दीवार पर बंटवारे का ।

चित्र में आप विदासोआ नदी देख रहे हैं जो फ्रांस और स्पेन की सीमा तय करती है । नदी के बीच में फ्रांसेस द्वीप है , जिसके लिए फ्रांस और स्पेन की 30 साल लम्बी लड़ाई चली थी । 1659 में नदी पर एक लकड़ी का पुल बनाया गया । दोनों देशों की सेनाएं आमने सामने थीं । इस द्वीप पर 3 माह तक शांति वार्ता चली थी । अंत…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , | Leave a comment

मोटापे को कोसते हो बार बार किसलिए ?

एक खबर पढ़ रहा था । प्रशांत क्षेत्र में एक जगह है टोंगा । यहां की 40% आबादी को डायबिटीज है । वजह है मोटापा । लोग खूब खाते हैं । अपने वजन में खूब इजाफा करते हैं । कहते हैं कि वहां की सरकार इस वजह से बहुत परेशान है । सरकार के बजट का एक बहुत बड़ा हिस्सा मोटापा जनित रोगों के दवा दारु में चला जाता है…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , , | Leave a comment

भगजोगनी ।

भगजोगनी और मैं एक साथ पढ़ते थे । पांचवी पास के बाद हमने पढ़ाई छोड़ दी थी । भगजोगनी ने इसलिए पढ़ाई छोड़ी कि इसके बाद गांव में पढ़ाई की सुविधा नहीं थी । पांचवी के बाद मिडल की पढ़ाई के लिए रेवती जाना पड़ता , जो कि एक लड़की के लिए निरापद नहीं समझा जाता था । मैंने पढ़ाई इसलिए छोड़ी कि मैं पढ़ना नहीं चाहता था । मुझे…

Posted in रचना क्रम में | Tagged , , | Leave a comment