बेवजह इल्जाम है दीवार पर बंटवारे का ।

चित्र में आप विदासोआ नदी देख रहे हैं जो फ्रांस और स्पेन की सीमा तय करती है । नदी के बीच में फ्रांसेस द्वीप है , जिसके लिए फ्रांस और स्पेन की 30 साल लम्बी लड़ाई चली थी । 1659 में नदी पर एक लकड़ी का पुल बनाया गया । दोनों देशों की सेनाएं आमने सामने थीं । इस द्वीप पर 3 माह तक शांति वार्ता चली थी । अंत में एक संधि हुई , जिसे पीस ट्रीटी कहा गया । इतिहास में यह संधि पायनीस संधि के नाम से मशहूर है । इस संधि को और मजबूत करने के लिए फ्रांस और स्पेन के राजघरानों का वैवाहिक रिश्ता भी हुआ । फ्रांस के राजा लुईस चौदहवें की शादी स्पेन के राजा फिलिप चतुर्थ की बेटी से हुई थी ।

फ्रांसेस द्वीप पर संधि के अनुसार दोनों देशों का छः छः माह का कब्जा तय हुआ । यह संधि पिछले 350 से अधिक सालों से कामयाब होती चली आ रही है । इस द्वीप को कभी कभार हीं आम जनता के लिए खोला जाता है । आम तौर पर यह द्वीप बंद हीं रहता है । नदी के जल का स्तर घटता बढ़ता रहता है । बाज दफा नदी का जल स्तर इतना कम हो जाता है कि दोनों तरफ के लोग एक दुसरे के यहां पैदल हीं आ जा सकते हैं । एक तरफ फ्रांस का हेंडई शहर है तो दूसरी तरफ स्पेन का इरून शहर है । इन्हीं दोनों शहरों के प्रशासन को फ्रांसेस द्वीप के रख रखाव की जिम्मेदारी सौंपी गयी है । इस द्वीप के रख रखाव में लापारवाही व कोताही साफ झलकती है । हर साल इसका एक बड़ा हिस्सा नदी बहा ले जाती है ।

दोनों देशों ने इस द्वीप को हमेशा नाक की लड़ाई माना , पर दोनों का समान कब्जा हो जाने पर कोई इसका रख रखाव ठीक ढ॔ग से नहीं कर रहा है । किसी एक का कब्जा होने पर इसके रखरखाव में कोताही नहीं बरती जाती । दोनों देशों में से कोई इस पर खर्च नहीं करना चाहता । हांलाकि इस द्वीप पर दोनों हीं अपना हक जताते हैं । एक दिन हक जताते जताते यह द्वीप बरबाद हो जाएगा । फिर 350 सालों पुरानी संधि से दोनों देश मुक्त हो जाएंगे । दोनों देश इसके रख रखाव की जिम्मेदारी से भी मुक्त हो जाएंगे । नाक की लड़ाई भी नहीं रहेगी ।

यह बंटवारा तो दो देशों के बीच हुआ है । कई बार एक हीं घर में रहने वाले लोग भी मानसिक रुप से अलग रहने लगते हैं । उनका मतभेद रहने लगता है । उनका मनभेद भी उभरकर सामने आ जाता है ।

बेवजह इल्जाम है दीवार पर बंटवारे का ,
कई लोग एक कमरे में भी अलग रहते हैं ।

एस. डी. ओझा

https://www.facebook.com/sd.ojha.3

(लेखक वरिष्ठ साहित्यकार और स्वतंत्र टिप्पणीकार है)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *