जीवन रूपी नदी सी लगती है किताब

May 17, 2018

देश और विदेश के कई फिल्म‌ समारोहों मे अवार्ड लेकर धमाल मचा चुकी फिल्म‌ किताब की स्क्रीनिंग दिल्ली मे 15 मई को फिल्म डिविजन आॅडिटोरियम ,महादेव रोड ,दिल्ली में हुआ । इस मौके पर “गैजेट VS किताब” पर एक परिचर्या भी हुुई जिसमे मुख्य रुप से पद्मभूषण डाॅ. बिन्देश्वर पाठक और मैत्रेयी पुष्पा, उपाध्यक्षा – हिन्दी अकादमी ,दिल्ली सरकार शामिल थी।   इस मौके पर हिन्दी अकादमी कि उपाध्यक्षा मैत्रेयी…

Read More >>

भोजपुरी के प्रथम आचार्य कवि : पण्डित धरीक्षण मिश्र

March 25, 2018

साहित्य अकादेमी द्वारा प्रकाशित विनिबंध ‘भारतीय इतिहास के निर्माता धरीक्षण मिश्र’ में डॉ वेदप्रकाश पाण्डेय जी ‘अपने ‘आचार्यत्व’ खंड में लिखते हैं कि धरीक्षण मिश्र भोजपुरी भाषा और साहित्य के पहले ऐसे समर्थ कवि हैं, जिन्होंने कवि-कर्म के साथ-साथ अलंकार-शास्त्र का प्रणयन किया है। अनेक यशस्वी लेखक और कवि हुए हैं, किन्तु केशवदास जैसा कोई आचार्य कवि नहीं हुआ। इस भाषा में इस आभाव की पूर्ति हुई धरीक्षण मिश्र से। धरीक्षण…

Read More >>

पथलगड़ी के नाम पर गांव बचाइयेगा या झारखंड को सुलगाइयेगा

November 11, 2017

नया विवाद पूर्व शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की के उकसाने वाले बयान के बाद उठ खड़ा हुआ है। बंधु वैसे तो पथलगड़ी की परंपरा को सही साबित करने और इसके खिलाफ मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा जगह-जगह पोस्टर लगाने और विज्ञापन जारी करने के खिलाफ अपना बयान दे रहे थे। मगर बोलते-बोलते या तो बहक गये, या उन्होंने जानबूझकर कह दिया कि काली गाय की बली देना भी हमारी पंरपरा है और…

Read More >>

उजड़ने की कगार पर तो नहीं पहुंच गया है हजारों साल पुराना सोनपुर मेला?

November 10, 2017

पिछले तीन-चार साल से मैं लगातार सोनपुर मेला जाता रहा हूं। यह सच है कि इस मेले में भीड़ हमेशा से दो-तीन वजहों से आती रही है। पहला पालतू पशुओं और पक्षियों की खरीद-बिक्री की वजह से, दूसरा इन डांस थियेटरों की वजह से। इन तमाम चीजों में कानून का लोचा रहता है, और इन्हीं कानूनी सख्तियों की वजह से मौर्यकालीन कहा जाने वाला एशिया का यह सबसे बड़ा पशुमेला…

Read More >>

नज़र उनपर भी कुछ डालो

October 15, 2017

हमारे पूर्वजों ने दीवाली सहित किसी धार्मिक या लोकपर्व की परिकल्पना करते वक़्त अपने गांवों के कारीगरों, शिल्पियों और कृषकों की रोज़ी-रोटी और सम्मान का पूरा-पूरा ख्याल रखा था। उनके उत्पादों के बिना कोई भी पूजा सफल नहीं मानी जाती थी। औद्योगीकरण के आज के दौर ने बहुत कुछ बदल दिया है। हम भूलते जा रहे हैं कि उजालों के पर्व दीवाली में अपने देश के लाखों लोग ऐसे हैं…

Read More >>

ज़िंदगी जश्न के सिवा क्या है

October 13, 2017

किसी हिन्दू या बौद्ध तीर्थ-स्थल पर या हिमालय के किसी एकांत में मोक्ष या निर्वाण के लिए भटकते लोगों की भारी भीड़ क्या आपको हैरान नहीं करती ? ये लोग आवागमन से मुक्त जिस मोक्ष या निर्वाण की खोज में लगे हैं, क्या उसकी कहीं कोई संभावना है भी ? तमाम अस्तित्व, मोह-माया, इच्छाओं और गति से परे अगर कोई मोक्ष है तो वह शून्य की कोई स्थिति ही हो…

Read More >>

आर्सेनिक क्षेत्रे भृगु क्षेत्रे

October 12, 2017

बलिया जनपद को भृगु क्षेत्र कहा जाता है , क्योंकि यह जगह कभी भृगु मुनि की तपस्थली थी । आज यह क्षेत्र पूर्ण रुपेण आर्सेनिक क्षेत्र हो गया है । उत्तर प्रदेश जल निगम के सर्वे के अनुसार इस क्षेत्र के बहुत से गांव आर्सेनिक प्रभावित क्षेत्र में आ गये हैं । यहां कुछ गांवों के नाम दिये जा रहे हैं – क्रम संख्या गांव का नाम पी पी एम…

Read More >>

अब भी याद आता है वो पंगत में बैठकर भोजन करना ।

October 11, 2017

पंगत में बैठकर भोजन करने का एक अलग सुख होता है । आप खाते जाइए । परोसने वाले आपको खिलाते जाएंगे । बेशक आप खाते खाते थक जाएंगे , पर खिलाने वाले कत्तई नहीं थकेंगे । हां , अगर आपको किसी विशेष डिश की जरूरत है और वह आपके पास नहीं आ रही है या आप शर्मो हया के चलते मांग नहीं पा रहे हों तो ऐसे में सिर्फ आपको…

Read More >>

राजनीति तो होती रहेगी सरकार

September 27, 2017

मध्य प्रदेश के मंदसौर में अपने हक़ की आवाज़ लिए सड़कों पर उतरे किसानों पर गोली चलवाने का आधार ये था कि ये विपक्ष की चाल है। महाराष्ट्र के किसानों की मांग भी तब तक खारिज की गई, जब तक उन्होंने सरकार को बातचीत के लिए मजबूर नहीं कर दिया। हाल के सीकर आंदोलन को भी सरकार इस मुद्दे पर 12 दिनों तक नजरअंदाज करती रही कि इसका नेतृत्व दो…

Read More >>

पत्थर से दिल लगाया और दिल पे चोट खाई

September 24, 2017

यह संवेदनहीनता की इन्तेहा ही थी।बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में छेड़खानी की लगातार बढती घटनाओं और इस मुद्दे पर विश्वविद्यालय प्रशासन की मूढ़ता और उदासीनता से परेशान विश्वविद्यालय की सैकड़ों लडकियां अपनी फ़रियाद सुनाने के लिए विश्वविद्यालय के गेट पर खड़ी दो दिनों के बनारस दौरे पर गए अपने सांसद और देश के प्रधानमंत्री मोदी की बाट जोहती रही। अपने साथ हुए अपमानजनक सलूक के विरोध में कुछ लड़कियों ने अपने…

Read More >>