फाहित्य…

July 28, 2018

राहुल जी ने सदन में आँख मार कर भारतीय लोकतंत्र को एक नई दिशा दी है। वैसे यह भी एक सच्चाई है कि भारत की संसद में मारने के लिए केवल यही एक “आँख’ ही बची थी, सदन ने देश का शेष सब कुछ तो बहुत पहले ही मार दिया था। कुछ दिन पूर्व एक नवोदित अभिनेत्री ने आँख मार कर देश का दिल लूटा था, आज राहुल जी ने आँख…

Read More >>

फिर एक कहानी और श्रीमुख “रहस्य”

July 20, 2018

27 जनवरी सन 1556 ई. लगभग एक तिहाई भारत पर शासन कर रहा हुमायूँ अपने सबसे विश्वासपात्र सेवक बैरम खाँ की बलिष्ठ जंघा पर सर रखे अंतिम साँसे गिन रहा था। हुमायूँ और बैरम दोनों की आँखों में जल भर आया था। अपनी अनियंत्रित उल्टी साँसों से लड़ते हुए हुमायूँ ने बैरम खाँ की ओर एक निरीह दृष्टि डाल कर कहा- कुछ कहूँ तो मानोगे बैरम? बैरम खाँ ने रोते…

Read More >>

गरीब लोगों का अमीर देश बनता भारत

January 20, 2018

कहा यह जाता है कि इंग्लैंड में शुरू हुई पहली औद्योगिक क्रांति के दौरान कोयले और स्टीम की शक्ति का इस्तेमाल किया गया और इस क्रांति के कारण शक्ति का केंद्र यूरोप की तरफ झुक रहा| इतिहास से यह भी ज्ञात होता है कि इससे पहले 17वीं शताब्दी तक भारत और चीन को सबसे धनी देशों में गिना जाता था| दूसरी औद्योगिक क्रांति के दौरान बिजली और ईंधन का इस्तेमाल…

Read More >>

अश्लीलता के खिलाफ हो रहे विरोध ब्राम्हणवादी एप्रोच नहीं बल्कि एक संघर्ष है

January 16, 2018

वैसे तो भोजपुरी में फ़ैल रहे अश्लीलता के विरोध में काफी लम्बे समय से संघर्ष चल रहा है| लेकिन हाल के दिनों में यह मामला काफी जोर पकड़ चुका है| तमाम लोग खुल के सामने आ रहे है और अपने-अपने पक्ष को लिख रहे है| इसका एक माध्यम लल्लनटॉप बना है| लेख और विडियो के माध्यम से पक्ष और विपक्ष काफी जोरों पर है| इस बार केंद्र में भोजपुरी गायिका…

Read More >>

भारत में इलेक्ट्रिक गाड़ियों का भविष्य

December 18, 2017

भारत सरकार द्वारा एक दिशा-निर्देश दिया गया है जिसमे यह कहा गया है कि 2030 के बाद सिर्फ और सिर्फ इलेक्ट्रिक गाड़ियाँ ही बेचीं जाएंगी| ऑटोमोटिव इंडस्ट्रीज में एकदम से खलबली मची है| सब अपने अपने रास्ते अख्तियार कर रहे है जिससे वो आगे की रोड मैप तैयार कर सके| ऑटोमोटिव इंडस्ट्रीज का ध्यान सिर्फ और सिर्फ इलेक्ट्रिक गाड़ियों पर जा टिका है| ऐसे में बहुत सारे सवाल खड़े हो…

Read More >>

हिन्दी साहित्य और गधावाद

September 19, 2017

देश के घोषित और पोषित साहित्यकारों ने एक बार फिर गधे को विमर्श के केंद्र में ला दिया है। अब इसे स्वनामधन्य साहित्यकारों की बौद्धिकता समझें या गदहपन, पर विमर्श को ऊंची अट्टालिकाओं से खींच कर गधे के पांव में लाना उन्हें नमन के योग्य बनाता है। बहुत पहले हिन्दी के जनवादी शायर अदम गोंडवी ने कहा था- जो ग़ज़ल मासूक के जलवों से वाकिफ हो गयी, उसको अब बेवा…

Read More >>

अजी छोड़िए वामपंथ-दक्षिणपंथ, आइए एक ‘देवता’ से मिलते हैं

September 17, 2017

जिस दौर में लाशों को भी वेंटीलेटर पर रखकर बिल भुनाने से कई डॉक्टर नहीं चूकते, उस दौर में इस देवतुल्य चिकित्सक की कहानी दिल को गदगद कर देती है। जब तमाम डॉक्टर सरकारी नौकरी छोड़ प्राइवेट प्रैक्टिस से करोड़ों का अस्पताल खोलना फायदेमंद समझते हैं, तब बीएचयू के प्रख्यात कार्डियोलाजिस्ट पद्मश्री प्रो. डॉ. टी के लहरी साहब अद्भुत हैं। आप हैरत में पड़ेंगे। मेडिकल कॉलेज में तीन दशक की…

Read More >>

कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना

September 17, 2017

तब सरकार राजीव गांधी की थी। रेल मंत्री थे ग्वालियर के महाराजा माधवराव सिंधिया। 1986 से 1989 के बीच गजब का काम किया रेलवे में। हुलिया बदलकर रख दिया। उस समय भारतीय रेल का आधुनिकीकरण और कम्प्यूटराइजेशन संभव हुआ तो वह सिंधिया के विजन की बदौलत। सिंधिया सपने देखते थे। उसे धरातल पर उतारने के लिए बेचैन हो उठते थे। एक तो राजा थे, दूसरे रेल मंत्री। मगर, सफर करना…

Read More >>

म्यांमार में “मुस्लिम” बनाम “बौध” की लड़ाई में भारत का हस्तक्षेप बेहद जरूरी

September 9, 2017

अभी दो दिन पहले मैंने रोहिंग्या मुस्लिम की समस्याओं को लेकर एक छोटा सा लेख लिखा था| मुझे बहुत अच्छा लगता है जब मेराकिसी वैचारिक असहमति का सामना होता है| मुझे थोड़े थ्रस्ट मिले जरूर थे लेकिन मैंने यह समझा कि शायद अपनी पूरी बात नहीं कह पा रहा हूँ| उसी लेख पर अपनी पूरी बातें कहूँगा|सबसे पहले हमें यह जानना होगा कि म्यांमार किस प्रकार का देश है| यह…

Read More >>

ब्रिक्स सम्मेलन-मोदी ने अलग से उठाया आतंकवाद का मुद्दा, बोले – शांति के लिए सहयोग जरूरी

September 4, 2017

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्रिक्स सम्मेलन के लिए चीन में हैं। पीएम ने ब्रिक्स बैठक में बोलते हुए कहा कि सभी देशों में शांति के लिए ब्रिक्स देशों का एकजुट रहना जरूरी है। इससे पहले चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पीएम मोदी का औपचारिक स्वागत किया। ये जान ले कि ये ब्रिक्स का 9वां सम्मेलन है। ब्रिक्स में ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका देश शामिल हैं।…

Read More >>