पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा

October 16, 2019

यह बात पापा ने नहीं, चाचा ने कही थी। चाचा थे नासिर हुसैन। हुआ यह कि जावेद अख्तर नासिर हुसैन से मिलने उनके सेट पर पहुँचे थे। उन्होंने देखा कि एक लाल गालों वाला लड़का सेट पर काफी एक्टिव हो इधर—उधर निर्देश देता फिर रहा है। पता चला कि इस लड़के का नाम आमिर खान है। यह नासिर का भतीजा और उनका इस फिल्म में सहायक है। जावेद ने छूटते…

Read More >>

घर के बुजुर्ग जैसे अमिताभ

October 12, 2019

जिसके लिए बचपन से सिनेमा का मतलब ही ‘अमता बचन’ हो उसके लिए अमिताभ बच्चन को दादा साहेब फाल्के अवार्ड मिलना व्यतिगत उपलब्धि जैसी है। हाँ! अमिताभ को दादा साहेब फाल्के अवार्ड मिलना मेरी व्यक्तिगत उपलब्धि है। अमिताभ मुझे अपने घर के बुजुर्ग जैसे लगते हैं। सिनेमा जगत से हमें असंख्य शिकायतें हो सकती हैं, पर हम इस सत्य से असहमत नहीं हो सकते कि आज के समय में देश…

Read More >>

खूबसूरत लोकतंत्र बनाम अज्ञानता…

September 23, 2019

देश मे मंदी आ रही है, फेसबुक पर लोग बेचैन है। धड़ाधड़ लेख लिखे जा रहे हैं। सरकार की गलत नीतियों की आलोचना हो रही है। लोग सजग हैं। कुछ दिनों पूर्व मुझे एक कार्यक्रम में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था। विषय था, “गरीबी कैसे मिटायें।” दुर्भाग्य से उस दिन मेरी साइकिल पंचर हो गयी और मेरे पास उसे ठीक कराने के पैसे नहीं थे। हम नहीं जा…

Read More >>

नवम्बर में होगा पहले चम्पारण शार्ट फ़िल्म फेस्टिवल का आयोजन

June 5, 2019

फिल्मेनिया एंटरटेनमेंट के चार साल पूरे होने के उपलक्ष्य में फिल्मेनिया टीम व दिल्ली की मीडिया कंपनी हर्फ़ मीडिया और कंसेंट एलिवेटर्स के संयुक्त रूप से पहले चम्पारण शार्ट फिल्म फेस्टिवल का आयोजन करने जा रही है।ज्ञात हो कि फिल्मेनिया एंटरटेनमेंट के बैनर तले बनी शार्ट फिल्म्स पिछले चार सालों से नेशनल और अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म समारोहों में धूम मचा रही है. बैनर की पिछली शार्ट फिल्म ककक-किरण नाइजीरिया और लॉस…

Read More >>

नाथूराम गोडसे और हिन्दू आतंकवादी!!

May 18, 2019

हाँ तो पहले यह बता दूँ कि अपने असंख्य मित्रों से असहमति के बाद भी महात्मा गाँधी की हत्या के लिए नाथूराम गोडसे को अपराधी मानता हूँ। यह मेरा व्यक्तिगत विचार है, और इसमें कोई परिवर्तन नहीं होगा। पर रुकिये। आप जो नाथूराम गोडसे को पहला आतंकवादी कह रहे हैं न, तो आपकी औकात नहीं है यह कहने की… महात्मा गाँधी की हत्या के साल भर पहले भारत का विभाजन…

Read More >>

आखिर क्यों देखे फिल्म “मणिकर्णिका”……

January 28, 2019

कंगना राणावत की फ़िल्म “मणिकर्णिका”!  सच कहें तो ‘महारानी झाँसी’ जैसे चरित्र को परदे पर उतारना बड़ा कठिन कार्य है। धन्यवाद के पात्र हैं वे लोग जिन्होंने यह फ़िल्म बनाने की सोची। देखी जानी चाहिए यह फ़िल्म, ताकि समझ सकें हम अपने इतिहास को… मणिकर्णिका देखिये, ताकि आप जान सकें कि भारत की पवित्र भूमि ने कैसी-कैसी बेटियों को जन्म दिया है। मणिकर्णिका देखिये, ताकि भविष्य में जब कोई मूर्ख…

Read More >>

सर्व भाषा ट्रस्ट का प्रथम वार्षिकोत्सव सम्पन्न

December 27, 2018

भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन के लिए समर्पित संस्था सर्व भाषा ट्रस्ट द्वारा दिल्ली के साहित्य अकादमी सभागार में प्रथम वार्षिकोत्सव का आयोजन किया गया।अपने स्वागत भाषण में सर्व भाषा ट्रस्ट की परिकल्पना और उसकी योजनाओं पर अध्यक्ष अशोक लव ने विस्तार से चर्चा की। उन्होंने आगामी योजनाओं की भी चर्चा की। सचिव रीता मिश्रा व समन्वयक केशव मोहन पाण्डेय ने वार्षिक रिपोर्ट पढ़ी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि…

Read More >>

फाहित्य…

July 28, 2018

राहुल जी ने सदन में आँख मार कर भारतीय लोकतंत्र को एक नई दिशा दी है। वैसे यह भी एक सच्चाई है कि भारत की संसद में मारने के लिए केवल यही एक “आँख’ ही बची थी, सदन ने देश का शेष सब कुछ तो बहुत पहले ही मार दिया था। कुछ दिन पूर्व एक नवोदित अभिनेत्री ने आँख मार कर देश का दिल लूटा था, आज राहुल जी ने आँख…

Read More >>

फिर एक कहानी और श्रीमुख “रहस्य”

July 20, 2018

27 जनवरी सन 1556 ई. लगभग एक तिहाई भारत पर शासन कर रहा हुमायूँ अपने सबसे विश्वासपात्र सेवक बैरम खाँ की बलिष्ठ जंघा पर सर रखे अंतिम साँसे गिन रहा था। हुमायूँ और बैरम दोनों की आँखों में जल भर आया था। अपनी अनियंत्रित उल्टी साँसों से लड़ते हुए हुमायूँ ने बैरम खाँ की ओर एक निरीह दृष्टि डाल कर कहा- कुछ कहूँ तो मानोगे बैरम? बैरम खाँ ने रोते…

Read More >>

गरीब लोगों का अमीर देश बनता भारत

January 20, 2018

कहा यह जाता है कि इंग्लैंड में शुरू हुई पहली औद्योगिक क्रांति के दौरान कोयले और स्टीम की शक्ति का इस्तेमाल किया गया और इस क्रांति के कारण शक्ति का केंद्र यूरोप की तरफ झुक रहा| इतिहास से यह भी ज्ञात होता है कि इससे पहले 17वीं शताब्दी तक भारत और चीन को सबसे धनी देशों में गिना जाता था| दूसरी औद्योगिक क्रांति के दौरान बिजली और ईंधन का इस्तेमाल…

Read More >>