संदेसे आते हैं , हमें तड़पाते हैं ।

मेरे मेसेंजर पर लोगों के कुछ ऐसे मेसेज आते हैं , जिनका जिक्र करना मैं मुनासिब नहीं समझता । ज्यादातर ये कम उम्र के लोग होते हैं , जो दो तीन बार हाय हाय करने के बाद अवांछित तस्वीरें भेजना शुरू कर देते हैं । इन्हें मजबूरन मुझे ब्लाॅक करना पड़ता है । ऐसे लोगों की हमने पहचान कर ली है । इनकी फ्रेण्ड लिस्ट में केवल बुजुर्ग ही होते…

Read More >>

अगला लोसर मनाएं ल्हासा में ।

वह मुझे श्रीनगर में मिली थी । फुटपाथ पर तिब्बती सामान बेच रही थी । मैंने मजाक में पूछा – “तिब्बत कब जा रही हो ?” उसके चेहरे पर सख्त भाव आ गये थे । मुंह लाल हो गया था । उसने बात को चबाते हुए कहा था – “हम अगला लोसर ल्हासा में मनाएंगे ।” उस दिन के बाद से हमारी उसकी कई बार मुलाकात हुई , पर मैंने…

Read More >>

ततैया बैरी खा गयी रे !

कल रात की सुबह मैंने सपना देखा । ततैया मेरे सपने में आई । सुबह के वक्त नींद नहीं तंद्रा होती है । इसलिए मैं जान गया कि यह सपना है । सपने में ततैया का आना अशुभ माना जाता है । सपना देखने वाले के दुर्दिन आ जाते हैं । मैंने ततैया को डपटते हुए कहा – “तुम्हें मेरे सपने में नहीं आना चाहिए । तुम अशुभ हो “।…

Read More >>

चोट ।

आई पी सी के सेक्सन 44 के अनुसार किसी भी व्यक्ति के शरीर , मन , प्रतिष्ठा या सम्पति में किसी वजह से अवैध रुप से किया गया नुकसान चोट कहलाता है । आम तौर पर चोट से अभिप्राय शरीर और मन पर लगे आघात से लगाया जाता है । शरीर पर चोट लगती है । दर्द दिल को होता है । आघात दिल पर लगता है तो भी दिल…

Read More >>

शराबबंदी अभियान के हीरो गुप्तेश्वर पांडेय बने बिहार के नए डीजीपी, गृह विभाग ने जारी की अधिसूचना

बिहार पुलिस के नए मुखिया के नाम की घोषणा कर दी गई है। गृह विभाग की जारी अधिसूचना के अनुसार गुप्तेश्वर पांडेय को बिहार का नया डीजीपी बनाया गया है। वे 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी  हैं और फिलहाल डीजी ट्रेनिंग के पद पर हैं।शराबबंदी अभियान के हीरो गुप्तेश्वर पांडेय को बिहार का नया डीजीपी बनाया गया है।पांडेय बिहार में विशेष और स्मार्ट पुलिसिंग के लिए गुप्तेश्वर पांडेय को जाना…

Read More >>

कोई सूरत नजर नहीं आती ।

जब गाड़ियों का हुजुम एक साथ खड़ा हो जाता है जो हरकत करने में असमर्थ होता है या मंथर गति से रेंगता है तो इस क्रिया को जाम लगना कहा जाता है । जाम दिन प्रतिदिन लगता है । आज की तारीख में कोई भी शहर इससे अछूता नहीं है । किसी भी शहर में अब कोई ऐसी सड़क नहीं बची है जिस पर गाड़ियां फर्राटे से दौड़ सकें ।…

Read More >>

आई हिचकी , हिचकी आई ।

हिचकी आना आम बात है । जब आप मिर्च व मसालेदार युक्त भोजन करते हैं , कार्बोनेटेड पेय पीते हैं , शराब , सिगरेट , बीड़ी और हुक्के के मार्फत अपने अंदर निकोटिन इनहेल करते हैं तो हिचकी आती है । च्यूइंगम चबाने से भी हिचकी आती है । हिचकी का कोई असरदार उपचार अभी तक इजाद नहीं हुआ है । लेकिन कुछ घरेलू नुस्खें हैं जिनकी मदद से इस…

Read More >>

छेराछेरा कोठी का धान ला हेर हेरा के ।

ऐसा कहा जाता है कि छत्तीस गढ़ के राजा कल्याण शाह को मुगल बादशाह अकबर ने शाहजादे सलीम को राज काज का ज्ञान देने के लिए दिल्ली बुलाया था । उन्हें वहां रहते तकरीबन आठ साल हो गये थे । जब कल्याण शाह दिल्ली से रतनपुर लौटे तो लोग उनकी आगवानी के लिए नगर के बाहर खड़े थे । राजा को प्रजा ने फूलों से लाद दिया । उनको बाजे…

Read More >>

बाजत ताल पखावज बीना

मृदंग का इतिहास बहुत हीं प्राचीन है । कहते हैं कि इसकी रचना त्रिपुरासुर की खून सनी मिट्टी से स्वंय ब्रह्मा जी ने तैयार की थी । मृदंग मिट्टी का बना होने के कारण इसके टूटने का खतरा बहुत था । अमीर खुसरो भी अक्सर मृदंग बजाया करते थे । एक बार असावधानी वश यह टूट गया । अमीर खुसरो ने दोनों टुकड़ों से एक नया वाद्य बनाया । इस…

Read More >>

प्रथमे ग्रासे मक्षिका पातः ।

चांद सी महबूबा हो …. सबका एक सपना होता था । जब मानव चांद पर पहुंचा तो उसे पता चला कि चांद तो केवल पत्थरों पहाड़ों से बना है । वहां हरियाली तो रंच मात्र भी नहीं है । उससे लाख गुना तो अच्छी हमारी पृथ्वी है , जो हरी भरी तो है । लाखों लोगों का चांद को लेकर सोचा सपना चूर चूर हो गया । बहुत शोर सुनते…

Read More >>
error: Content is protected !!