न जाने यह चाइनीज अफीम का नशा कब उतरेगा ?

September 7, 2019

हमारा चन्द्रयान मिशन अपने लक्ष्य से भटक गया है, तो हमारे ही देश के कुछ रहमान, फारुख, खान और बनर्जी इस बात का जश्न मना रहे हैं। हमारे देश के भीतर ही अघोषित रूप से एक दूसरा देश रहता है जो हमारी असफलताओं पर जश्न मनाता है, खुश होता है। ये वही लोग हैं जो देश के पूर्व प्रधानमंत्री की मृत्यु पर उन्हें गाली देते हैं, प्रधानमंत्री की मृत्यु के…

Read More >>

फिर एक कहानी और श्रीमुख “ज्ञानवापी”

September 22, 2017

ई. सन 1669। क्वार(अश्विन) का महीना तनिक आलस के साथ धान की फूटती बालियों से उलझ रहा था, कि अचानक उसने देखा- गंगा का पानी लाल होने लगा था। वह चौंक उठा। कुछ ही वर्ष पहले उसने गंगा को लाल होते देखा था, जब मुगल सैनिकों ने विंध्याचल के विंध्यवासिनी मंदिर को तोड़ कर वहां के हिन्दुओं का सामूहिक नरसंहार किया था। उसे फिर किसी अनहोनी की आशंका हुई, वह…

Read More >>

नोटबन्दी का फेल होना सिर्फ मोदी का फेल होना नहीं बल्कि भारत का फेल होना है

September 2, 2017

नोटबन्दी का लेखा-जोखा आ गया। अपनी राजनैतिक आस्था के अनुसार सबने उसपर अपनी प्रतिक्रिया दी। मोदी जी के समर्थकों के अनुसार नोटबन्दी पूर्णतः सफल रही, तो राहुल, लालू, ममता जी के समर्थकों के अनुसार पूरी तरह फेल रही। दोनों पक्षों की अपनी अपनी मजबूरियां हैं, दोनों पक्ष अपने अपने कर्तव्य पथ पर डटे हुए हैं। जिन्हें मोदी में विकास पुरुष दिखता है, या जिन्हें मोदी के अतिरिक्त अन्य कोई विकल्प…

Read More >>